story of horror

Horror story in Hindi चीन की भूत की Bhoot Story [Part 3]

Horror story in Hindi bhoot story part 3 चीन की भूत की कहानी, पहले 2 पार्ट में हमने इस कहानी की शुरुआत के सभी बातों को आपके सामने रखे थे, अब इस पोस्ट में पार्ट 2 की आगे की कहानी बताने वाला हूं, चीन की भूत की कहानी को पूरा जानने के लिए आप पहले की 2 पार्ट को जरूर पढ़े उसके बाद पार्ट 3 को पढ़े तभी इस स्टोरी को आप अच्छे जान सकेंगे,

पार्ट 2 में हमने बताया था कि मातुल मामा चीन की भूत के परेशानी से बोहथ ज्यादा परेशान हो गया था, और बचने के लिए सभी तरह की कोशिश किया था लेकिन चीन की भूत के परेशानी से नहीं बच सका,

मामा से पूरी कहानी सुनने के बाद राधा माधव ने मामा को बताया कि वो इस चीन की भूत के परेशानी से मामा को बचायेंगे

अब आगे किया होता हैं वह जानते हैं, पार्ट 3 में

चीन की भूत Horror story in Hindi part 3

Horror Story in hindi
Horror Story in hindi

फिर राधा माधव ने उस रात में उसी घर में सोया, उसके बाद राधा माधव ने सोचा कि मैं इस भूत को बेवकूफ बनाऊंगा,

दूसरे दिन मातुल मामा से कहां इस भूत से बचने के लिए मैने एक आयडिया सोचा हैं,

भूत को भगाने के लिए मैं कुछ दिन और आपके पास रखना चाहता हूं, मामा ने कहा ठीक हैं,

उसके बाद राधा माधव के साथ कॉलेज में पढ़ाई करने वाले एक दोस्त जो उस समय

कोलकाता हॉस्पीटल में डाक्टरी कर रहा था उनसे बात किया,

और उन्हें बताया हॉस्पीटल में मरे हुए बॉडी में-से एक आदमी की हाथ उन्हें चाहिए, डॉक्टर दोस्त ने

एक मरे हुए आदमी की हाथ राधा माधव को दे दिया, राधा माधव हाथ को घर-पर लेकर आया,

और उस हाथ को एक कांच की शीशी में भरकर घर के बाकी शिशुओं के साथ उस घरमे राख दिया,

उसके बाद रात में क्या होता हैं यह देखने के लिए उसी घर-पर राधा माधव सो गया,

और देखने लगा कि भूत आज क्या करता हैं,

लगभग 12:00 बजे के बाद राधा माधव को उस भूत कि घर पर आने की आवाज सुनाई दिया,

फिर वह देखने लगा भूत क्या करता हैं आज, चीनी भूत उस दिन भी हमेशा की तरह

घर-में रखे हुए शीशी को एक-एक करके देखने लगा, उसके बाद

जिस कंच के अंदर हाथ रखे हुए थे उसके पास चीन की भूत जा पहुंचा उसके बाद

शीशी के अंदर हाथ को देखकर चीन कि भूत बहुत ही ज्यादा खुश हो गया,

उसके बाद उस कच के शीशी को अपने हाथ से मिलाकर देखने लगा और

चीन की भूत बहुत ज्यादा गुस्से में आ गया – horror story

Horror story in Hindi
Horror story in Hindi

आज शीशी को जमीन पर जोर से फेंका, कुछ देर के बाद वहां से चीन की भूत गायब हो गया, राधा माधव की कोशिश न काम हो गया,

उसके बाद राधा माधव सोचने लगा कि आखिर क्या बात हैं,

राधा माधव के समझ में आया के शीशी में जिस आदमी का हाथ रखे गया था,

वह आदमी इंडिया की होने की वजह से वह पहचान लिया कि यह हाथ उसका नहीं हैं,

वह भूत तो चीन की आदमी हैं इसलिए पहचान लिया यह हाथ उसका नहीं हो सकता हैं,

राधा माधव फिर से कोशिश किया और अपने दोस्तों को बताया कि उन्हें

एक चीन की आदमी का हाथ चाहिए, लेकिन इंडिया में चीन के आदमी का हाथ पाना आसान नहीं हैं,

फिर भी वो अपने दोस्तों को बताया कि अगर किसी चीन की आदमी का हाथ मिले तो उन्हें जरूर दे,

कुछ दिन के बाद हॉस्पीटल में एक चीन की आदमी जख़्मी हालत पर हॉस्पीटल में आया

उसका हाथ डै-मेज हो चुका था,

इसलिए उसका हाथ को काटना पड़ा, और उस दोस्त ने वह हाथ राधा माधव को दे दिया,

राधा माधव ने अगले दिन की जैसा ही कांच की शीशी के अंदर उस हाथ को रखकर बाकी शिशुओं की कांच के साथ रख दिया,

फिर उस रात में देखने के लिए उसी घर में सो गया के देखते हैं भूत आज क्या करता हैं,

आधी रात बीतने के बाद फिर से चीन की भूत उस घर में आया, आकर सभी शिशुओं को एक-एक करके देखने लगा उसके बाद

उस शीशी के पास पहुंचा जिस पर एक हाथ रखा हुआ था,

उस हाथ को देखकर चीन की भूत बहुत ज्यादा खुश हो गया

फिर उस शीशी को उठाकर अपने हाथ से मिलाने की कोशिश किया, लेकिन आज भी वो फिर से गुस्से में आ गया,

और हाथ को जमीन पर जोर से फेंका जिससे शीशी टूट गया फिर कुछ देर के बाद भूत गायब हो गया,

राधा माधव की इस बार की कोशिश भी नाकाम रहा राधा माधव को

समझ में नहीं आ रहा था आखिर क्या वजह हैं,

सुबह होने पर मामा भी घर पर आया आकर पड़े हुए हाथ को उठाया और उठाने के बाद उस हाथ को अच्छे से देखने लगा,

कुछ देर देखने के बाद मातुल मामा ने कहा अच्छा अब में समझा, यह हाथ डाहना हाथ हैं,

और चीन के भूत की जो हाथ कटे थे वो बया हाथ थे दाया हाथ देखकर

चीन की भूत समझ गया था कि यह हाथ उसका नहीं हैं,

इसका मतलब हमें किसी चीनी आदमी का बया हाथ चाहिए,

फिर से राधा माधव एक चीन की आदमी का बया हाथ ढूंढ-ने लगा

करीब करीब एक महीना बीत गया लेकिन उन्हें हाथ नहीं मिला,

ऐसे में चीन के अंदर जंग शुरू हो गया कोलकाता से चीन को जाने वाले जहाज की तलाश किया

और जहाज के अंदर काम करने वाले एक आदमी से

राधा माधव मुलाकात किया और उनसे बात किया उन्हें बताया कि मैं आपको एक कांच की शीशी दे रहा हूं

अगर आप चीन से किसी मरे हुए चीन के आदमी की बया हाथ लेकर आते हैं तो मैं आपको

₹100 इनाम दूँगा इससे वह आदमी खुश हो गया

और वह एक चीन की जंग में मरे हुए आदमी की बया हाथ लेकर आने के लिए राजी हो गया

जहाज जब चीन में पहुंचा तो वह आदमी वहां पर ढूंढ-ने लगा लेकिन चीन में जंग होने के कारण

वहां पर बहुत सारे आदमियों की लाश पढ़े हुए मिला,

और वह आदमी एक आदमी का हाथ लेकर कोलकाता में वापस आया और राधा माधव को दे दिया

राधा माधव ने उस-को ₹100 इनाम दिया उसके बाद,

उस हाथ को राधा माधव दूसरे कंच की शीशी के साथ घर में राख दिया,

और उस रात उसी घर में सो गया

देखने के लिए कि चीन की भूत आज क्या करता हैं – horror story hindi

आधी रात बीतने के बाद फिर से चीन की भूत की आने की आवाज आया और

पहले के जैसा ही सभी शिशुओं को एक-एक करके देखने लगा,

फिर उस कांच के पास भी पहुंचा जिस पर वह हाथ रखा हुआ था,

हाथ को देखकर वह फिर से बहुत ज्यादा खुश हो गया

उस कांच को उठाया और अपने हाथ से मिला कर देखने लगा उसके बाद उस

भूत को यकीन आया कि यह हाथ उसी का हैं उसके बाद

वह भूत झूम-ने लगा नाचने लगा फिर चिंग चांग सींग संग करके गाना गाने लगा, उसके बाद

उस कांच के शीशी को लेकर वह गायब हो गया,

यह देखकर राधा माधव तुरंत मामा को आवाज देकर उठाया और बताया कि वह चीन की भूत हाथ को लेकर चले गया हैं,

इतने में बाजू के घर से कुछ आवाज आने लगा फिर राधा माधव और मामा और उनकी मामी बाहर से उस घर के अंदर झांक-ने लगा,

देखा कि भूत अभी तक गया नहीं हैं उस घर के अंदर बर्तनों में से कुछ निकाल कर चीन की भूत कुछ खा रही हैं,

इतने में मामी ने बताया कि उसने बहुत सारा अलग-अलग तरह की मिठाई बनाए थे

और उस-को अच्छे से बर्तनों में ढाक कर रखे थे

जिन्हें चीन की भूत निकाल कर मुझे के साथ खा रहा हैं,

इससे सभी हंसने लगा फिर वह चीन की भूत वहां से चले गया,

उसके बाद से अब चीन की भूत दोबारा नहीं आता हैं और मातुल मामा

अब सर पर बाल भी रखे हुए हैं,

तो दोस्तों यही था चीन की भूत की कहानी चीन की भूत का स्टोरी आपको

कैसा लगा हमें कमेंट कर जरूर बताएं,

इस तरह के और भी बहुत सारे भूतों की कहानी के लिए www.newstorylife.com साथ बने रहे

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Scroll to Top