Jadui Chakki

Jadui Chakki | जादुई चक्की के Kahani Hindi Me [2020]

Jadui chakki इस पोस्ट में जादुई चक्की के एक Story बताने वाला हूं जोकि आपको बहुत पसंद आने वाला हैं
अगर आप Jadui Chakki के कहानी के बारे में जानना चाहते हैं तो आप इस पोस्ट को पूरा जरूर पढ़ें

एक गांव में 2 भाई रहता था एक का नाम था राजा और दूसरे का नाम था गोपाल,
गोपाल बहुत मेहनती था और गरीब भी था, लेकिन राजा अमीर आदमी था
और अपने भाई गोपाल की कोई मदद नहीं करता था,

गोपाल की घर में वह और उसके पत्नी और 2 बच्चे रहते थे, बहुत मुश्किल से दिन गुजर रहा था,
एक दिन खाने के लिए घर में कुछ भी नहीं था और बाजार खराब होने की कारण
गोपाल को कोई काम भी नहीं मिल रहा था

घर में खाने के लिए कुछ भी समान नहीं होने के कारण बच्चे को भी कई दिन से पेट भर खाने को नहीं मिल रहा था
ऐसे में गोपाल की पत्नी ने गोपाल से कहा की बाजार में जाकर कोई काम कि तलाश करें
और कुछ खाने की चीज लेकर आए

Jadui Chakki Hindi Kahaniyan

Jadui Chakki
Jadui Chakki

गोपाल बाजार में गया काम की तलाश में वहां जाकर काम की तलाश करने लगा लेकिन कोई भी काम उनको नहीं मिला
ऐसे में वो मायूस होकर घर लौटा घर में जाकर देखा दोनों बच्चे भूक की कारण रो रहा था
कई दिन से पेट भर कर खाने को नहीं मिला था

ऐसे में गोपाल की पत्नी ने कहा की उनके बड़े भाई राजा के पास से कुछ खाने को लेकर आए जिससे उनके बच्चे को कुछ खाने को मिले
उनका पेट भर सके ये सुनकर गोपाल अपने बड़े भाई के पास गया
कुछ खाने के चीज लाने जब वह अपने भाई के पास गया तो

उनके भाई उसे देख कर बोहथ गुस्से में आकर कहा क्या बात हैं और तुम मेरे पास किस लिए आए हो गोपाल ने अपना पूरा किस्सा सुनाया
और भाई से मदद के लिए कहां लेकिन उनके भाई ने उसकी कोई भी मदद नहीं क्या
और उसे अपने घर से चले जाने के लिए कहां

ये सून कर गोपाल मायूस होकर घर की तरफ चलना शुरु किया कुछ दूर चलने के बाद उन्हें एक बूढ़ा आदमी मिला
जो बहुत कमज़ोर लग रहा था और उन्हें पानी का प्यास लगा था,
उन्हें पानी देने वाला कोई नहीं था ऐसे में गोपाल ने उन्हें

पानी लाकर दिया जिससे वह बूढ़ा आदमी बहुत खुश हुआ और गोपाल से कहां बेटा तुम ने मेरे जान बचाया
इसके बदले में तुम मुझसे जो चाहते हो मांग सकते हो गोपाल ने बूढ़े आदमी से
अपने घर की सभी बातें बताया,

सभी बात सुनने के बाद गोपाल को बूढ़े आदमी ने एक चक्की दिया गोपाल चक्की को देख कर
बूढ़े से कहां बाबा इस चक्की का में क्या करू बूढ़े ने कहां बेटा ये कोई
मामूली चक्की नहीं ये तो Jadui chakki हैं और तुम इस

जादुई चक्की से जो कुछ भी मगोगे ये जादुई चक्की तुम्हें वह सब देगा

और Jadui Chakki को रोकने के लिए इसके ऊपर तुम सफेद कपड़े से ढक देना ये बंद हो जाएगा
ये सून कर गोपाल तो बहुत खुश हुआ और जादुई चक्की को घर ले गया,
घर पर जाकर उसने अपने पत्नी को सब बात सुनाया

फिर उसने एक कपड़ा बिछाई फिर उसने चक्की को घुमा कर जादुई चक्की से खाने की चीज मगा फिर
चक्की से सब खाने की चीज आया और चक्की को सफेद कपड़े से ढक कर
उन्हों-ने पेट भर कर खाना खाकर रात में सो गया

सुबह उठ कर फिर से जादुई चक्की को चलाया और बहुत सारे समान निकला चक्की से और बाजार में
जाकर बेच आया अब गोपाल रोज ऐसा ही करते रहा रोज चक्की से कुछ ना कुछ
सामान मँगता और बाजार में जाकर बेच अता

इससे वह बहुत जल्द अमीर बन गया ये सब देख कर गोपाल की भाई राजा को जलन हुआ
और उसने सोचा ये गोपाल इतना जल्दी अमीर कैसे बन गया
इसके पास तो कुछ दिन पहले खाने को भी नहीं था

ऐसे में राजा गोपाल की पीछा करने लगा और उसकी अमीर होने का कारण जानना चाहा
फिर जब उसे Jadui Chakki के बारे में पता चला तो उसने जादुई चक्की को
चोरी करने की सोचा और उसने चक्की को चुरा लिया

लेकिन राजा जादुई चक्की को बंद कैसे करते हैं ये नहीं देखा

वह घर जाकर दरवाजा को बंद कर दिया फिर जादुई चक्की को चलाया और सोने की मोहार मांगने लगा फिर
चक्की से सोने के मोहार निकलने लगा लेकिन राजा को तो पता नहीं था कि कैसे

जादुई चक्की को रोके जाते हैं ऐसे में जादुई चक्की से सोने का खजाना निकलता रहा निकलता रहा
कुछ देर के बाद थोड़ा घर बंद हो गया दरवाजा लगा होने के कारण वह बाहर निकल नहीं पाया

ऐसे में उसका वहीं पर मौत हो गया दोस्तों यह था जादुई कहानी जादुई चक्की की कहानी
इसमें हमें सीख-ने को मिलता हैं बुरे काम का बुरे नतीजा, हम अगर बुरे करते हैं तो

हमारे साथ भी बुराई होते हैं इसलिए कभी भी किसी की बुराई नहीं करना
अच्छे इंसान बनकर अपना जीवन जीना

My Facebook Page

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top